बेस्ट रिवेंज एग्जांपल्स इन हिंदी |बदला लेने के बेस्ट उदाहरण हिंदी में

बेस्ट रिवेंज एग्जांपल्स इन हिंदी |बदला लेने के बेस्ट उदाहरण हिंदी में | दोस्तों आप लोगों को पता होगा जब दिल टूटता है जब कोई दिल दुखा देता है तो कितना बुरा लगता है यह किसी भी चीज में हो सकता है चाहे वो पढ़ाई के चक्कर में हो, चाहे बिजनेस के सेक्टर में हो, चाहे खेल के सेक्टर में हो, चाहे जॉब के सेक्टर में हो, चाहे फिर हिंदी बोलने के चक्कर में हो या फिर अंग्रेजी बोलने के चक्कर में हो या चाहे कोई और भी लैंग्वेज सीखने से लेकर के पढ़ाई से लेकर के खेल से लेकर के किसी भी मामले में हो बेहद बुरा लगता है जब कोई चिढ़ाता है और वह हमें बर्दाश्त नहीं होता तो आइए जानते हैं ऐसे गजब के उदाहरण जब बदला लिया इन इन लोगों ने अपने प्रतिनिधियों से

ईस्ट इंडिया कंपनी वर्सेस इंडिया

1. ईस्ट इंडिया कंपनी वर्सेस इंडिया

ईस्ट इंडिया कंपनी ने भारत को गुलाम बनाया था 19वीं शताब्दी में भारतीय लोगों पर जुल्म ढाए थे हर एक भारतीय को इस हिस्ट्री का ज्ञान , इस इतिहास का ज्ञान है।

उसी ईस्ट इंडिया कंपनी को भारतीय उद्योगपति संजीव मेहता ने खरीद लिया अधिग्रहण कर लिया

यानी कि 19वीं शताब्दी स्टेडियम ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी की थी तो आज 21वीं शताब्दी इंडियंस की है

donald-trump-narendra-modi

2. मोदी बनाम यूएसए अमेरिका

यह वक्त था सन 2005 का जब अमेरिका ने नरेंद्र मोदी को वीजा देने से मना कर दिया था उस टाइम पर नरेंद्र मोदी जी गुजरात के मुख्यमंत्री थे

जब बात आई 2014 की तो नरेंद्र मोदी जी भारत के प्रधानमंत्री थे और संयुक्त राज्य अमेरिका ने नरेंद्र मोदी जी को आमंत्रित किया था पूरे दुनिया में मैडिसन स्क्वायर में इतना भयंकर तमाशा । इतनी भयंकर लोगों की भीड़ पूरी जीवन में कभी कहीं और नहीं देखी गई थी

isro-cartoon-न्यूयॉर्क टाइम्स बनाम हिंदुस्तान टाइम्स

3. न्यूयॉर्क टाइम्स बनाम हिंदुस्तान टाइम्स

न्यूयॉर्क टाइम्स ने सितंबर 2014 में भारत के मंगल मिशन का जिसको मंगल मिशन के नाम से जाना जाता है उसका मजाक उड़ाया था और एक विवादित कार्टून छापा था।

वहीं पर अक्टूबर 2014 में जब अमेरिकी मानव रहित राकेट 28 में विस्फोट हुआ लॉन्च के दौरान, तो उसके बाद हिंदुस्तान टाइम्स ने इसका करारा जवाब दिया था।

शीला दीक्षित बनाम अरविंद केजरीवाल

4. शीला दीक्षित बनाम अरविंद केजरीवाल

दिल्ली में शीला दीक्षित के आवास के ठीक सामने अरविंद केजरीवाल जी को दिल्ली पुलिस ने दिसंबर 2012 में घसीटा था।

दिसंबर महीने के 2013 में दिल्ली के मुख्यमंत्री के रूप में अरविंद केजरीवाल ने शपथ ली और शीला दीक्षित को उन्हीं के ही निर्वाचन क्षेत्र से हराकर धूल चटाया।

महाराजा-जयसिंह-और-रोल्स-रॉयस-की-कहानी-Rolls-Royce-Vs-Indian-King-story-in-Hindi

5. महाराजा जय सिंह बनाम रोल्स रॉयस

यह कहानी एक बेहद ही मजेदार कहानी है उस समय rolls-royce काफी प्रसिद्ध हुआ करती थी अपने महंगे कारों के लिए ऐसे में अलवर के महाराजा जय सिंह rolls-royce के कारों की बारे में जानना चाहते थे । और इसके लिए वह लंदन के rolls-royce शोरूम में गए लेकिन रोल्स रॉयस के शोरूम के एक सेल्समैन ने उनका अपमान करके अभद्र टिप्पणी की और उनका मजाक उड़ाया और उनको भारतीय गरीब कहा । इसके बाद फिर महाराजा जयसिंह ने शाही अंदाज में उसी शोरूम में गए रोल्स रॉयस की 10 कारें खरीद करके भारत ले आए इसके बाद उन्होंने उन कारों को अपने शहर में कचरा ढोने के लिए कह दिया, इसका आदेश दे दिया जब यह समाचार विश्व पोर्टल पर छापा तो rolls-royce को अपनी शर्मिंदगी का अहसास हुआ और इसके लिए मजबूर होकर माफी मांगा

the-t-shirt-story-of-sourav-ganguly-and-andrew-flintoff

6. एंड्रयू फ्लिंटॉफ वर्सेस सौरव गांगुली

समय था फरवरी 2002 में जब फ्लिंटॉफ वानखेड़े स्टेडियम में इंग्लैंड की जीत के साथ ही अपनी शर्ट निकाल कर हवा में लहराते हुए इधर-उधर भागे जा रहे थे उस समय भारत को हरा दिया था इंग्लैंड ने, काफी नजदीकी मामला था

इसके बाद आता है नैटवेस्ट फाइनल का जून 2002 में और इस मुकाबले में सौरभ गांगुली की टीम ने ट्रॉफी जीता और यहां दादा ने ठीक उससे भी बेहतरीन अंदाज में अपना शर्ट निकाल कर हवा में लहराया और ईंट का जवाब पत्थर से दिया।

टाटा मोटर्स बनाम फोर्ड मोटर्स

7. टाटा मोटर्स बनाम फोर्ड मोटर्स

टाटा मोटर्स बनाम फोर्ड मोटर्स उदाहरण पूरा दुनिया जानता है हर एक बिजनेस स्कूल में इस वाकये का इस्तेमाल किया जाता है

हुआ यू की 1999 में फोर्ड मोटर्स ने रतन टाटा का अपमान किया था यह कहकर कि जब आप कुछ जानकारी नही रखते तो आपने कार मैन्युफैक्चरिंग यूनिट क्यों शुरू की ऐसा इसलिए था क्योंकि टाटा मोटर्स की कार यूनिट मैन्युफैक्चरिंग यूनिट चल नहीं पा रही थी तो टाटा मोटर्स यह डील करना चाह रहे थे फोर्ड मोटर्स के साथ

इसके बाद बारी आती है 2008 में जब फोर्ड मोटर्स के चेयरमैन बिलफोल्ड ने टाटा मोटर्स को धन्यवाद दिया और कहा कि “आप जेएलआर खरीद कर हम पर बहुत बड़ा एहसान कर रहे हैं हम पर परोपकार कर रहे हैं” उस समय फोर्ड मोटर्स के जैगुआर और लैंड रोवर का अधिग्रहण किया था टाटा मोटर्स में

ये भी पढ़ें : जब फोर्ड ने रतन टाटा को नीचा दिखाने की कोशिश की 

 

वह कहावत है ना हिंदी में अपनी बारी का इंतजार करो अच्छे समय का इंतजार करो समय सबका आता है , जवाब का अच्छा समय है तो अपनी प्रतिद्वंदी को अच्छे से धूल चटा के दिखाओ। कहके नहीं , करके दिखाओ , करके बताओ । तो कैसे लगे यह उदाहरण आपको जिन्होंने ना सिर्फ आप को मोटिवेट किया, बल्कि एस्पायर भी किया होगा इन्हीं स्टोरीज का इस्तेमाल आज पूरी दुनिया भर में उदाहरण के तौर पर किया जाता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *